Tuesday, 15 October 2013

विज्ञापन की चकाचौंध - अवनीश सिंह चौहान

सुनो ध्यान से
कहता कोई
विज्ञापन के पर्चों से

हम जिसका निर्माण करेंगे
तेरी वही जरूरत होगी
जस-जस सुरसा बदनु बढ़ावा
तस-तस कपि की मूरत होगी

भस उड़ती हो
आँख भरी हो
लेकिन डर मत मिर्चों से

हमें न मंहगाई की चिंता
नहीं कि तुम हो भूखे-प्यासे
तुमको मतलब है चीजों से
मतलब हमको है पैसा से

पूरी तुम बाज़ार उठा लो
उबर न पाओ खर्चों से

बेटा, बेटी औ' पत्नी की
मांगों की आपूर्ति करोगे
चकाचोंध से विज्ञापन की
तुम सब आपस में झगड़ोगे

कार पड़ोसी के घर आई
बच न सकोगे चर्चों से



No comments:

Post a comment

नवगीत संग्रह ''टुकड़ा कागज का" को अभिव्यक्ति विश्वम का नवांकुर पुरस्कार 15 नवम्बर 2014 को लखनऊ, उ प्र में प्रदान किया जायेगा। यह पुरस्कार प्रतिवर्ष उस रचनाकार के पहले नवगीत-संग्रह की पांडुलिपि को दिया जा रहा है जिसने अनुभूति और नवगीत की पाठशाला से जुड़कर नवगीत के अंतरराष्ट्रीय विकास की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। सुधी पाठकों/विद्वानों का हृदय से आभार।