Tuesday, 15 October 2013

एक आदिम नाच - अवनीश सिंह चौहान

आज मुझमें
बज रहा
जो तार है -
वो मैं नहीं -
आसावरी तू


एक स्मित
रेख तेरी
आ बसी
जब से दृगों में
हर दिशा
तू ही दिखे है
बाग़-वृक्षों में,
खगों में

दर्पणों के सामने
जो बिम्ब हूँ -
वो मैं नहीं -
कादम्बरी तू

सूर्यमुखभा!
कैथवक्षा!
नाभिगूढ़ा!
कटिकमानी
बींध जाते
हृदय मेरा
मौन इनकी
दग्ध वाणी

नाचता हूँ
एक आदिम 
नाच जो -
वो मैं नहीं-
है बावरी तू



No comments:

Post a comment

नवगीत संग्रह ''टुकड़ा कागज का" को अभिव्यक्ति विश्वम का नवांकुर पुरस्कार 15 नवम्बर 2014 को लखनऊ, उ प्र में प्रदान किया जायेगा। यह पुरस्कार प्रतिवर्ष उस रचनाकार के पहले नवगीत-संग्रह की पांडुलिपि को दिया जा रहा है जिसने अनुभूति और नवगीत की पाठशाला से जुड़कर नवगीत के अंतरराष्ट्रीय विकास की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। सुधी पाठकों/विद्वानों का हृदय से आभार।